बिहार की शैक्षणिक व्यवस्था की बदहाली के लिए जिम्मेदार कौन ?

Typography

बिहार बोर्ड के १२ वीं के नतीजे सूबे की शिक्षा-व्यवस्था पर सहज ही सवाल खड़े करते हैं लगभग डेढ़ दशक के बहुप्रचारित सुशासनी शासन में शिक्षा के क्षेत्र में बदहाली के कारणों की विवेचना ईमानदारी व् दृढ-इच्छाशक्ति से करनी होगी । महज शिक्षा सचिव के तबादले से परिस्थतियाँ सुधरने वाली नहीं हैं । जग-हँसाई के पश्चात् अधिकारियों का तबादला जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने के सिवा कुछ और नहीं है । 

शैक्षणिक व्यवस्था की बदहाली के लिए कौन जिम्मेदार है - अधिकारी, शिक्षक, या सूबे की सरकार ?  मेरे विचार में तीनों लेकिन सबसे ज्यादा सूबे के मुखिया और उनकी सरकार । आप पूछेंगे कैसे ? मेरे निम्नलिखित सवालों में ही जबाव निहित है:

अयोग्य शिक्षकों की नियुक्ति कौन करता है ?

संसाधनों के अभाव में सरकारी स्कूलों से निजी स्कूलों की तरफ मेधा के पलायन के लिए कौन जिम्मेवार है ?

शिक्षा से सम्बंधित अधिकारियों, शिक्षकों, व् स्कूलों के प्रधानाध्यापकों की जिम्मेवारी नहीं तय करने का दोषी कौन है ?

शिक्षण कार्य को छोड़कर अन्य सरकारी कार्यों में शिक्षकों को कौन लगाता है ?

स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता की पीरिऑडिक-मॉनिटरिंग नहीं किए जाने का दोषी कौन है ?

कुकरमुत्ते की तरह रोज उग रहे कोचिंग संस्थानों, निजी विद्यालयों पर लगाम कसने का काम किसका है ?

शिक्षा के क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार का संक्रमण किसकी अनदेखी या शह पर पल-बढ़ रहा है ?

शैक्षणिक करिकूलम के साथ नित्य नए अव्यवहारिक प्रयोग कौन कर रहा है ?

कॉमन शिक्षा-नीति व् व्यावहारिक करिकूलम बनाने की जिम्मेवारी किसकी है ?

समुचित मॉनिटरिंग के माध्यम से अयोग्य शिक्षकों की सामूहिक छंटनी एवं योग्य व् पात्रता वाले शिक्षकों की नियुक्ति से सरकार को परहेज क्यूँ है ?

शिक्षा व्यवस्था में सकारात्मक सुधारों के लिए शिक्षा के प्रति गंभीरता व् ईमानदारी से समर्पित शिक्षाविदों की अगुवाई में राज्य-स्तरीय नोडल इकाई के गठन के सुझाव पर राज्य सरकार उदासीन क्यूँ है ?

शैक्षणिक सत्रों में मीनिमम-क्लासेज के नियम को कड़ाई से लागू नहीं किए जाने के लिए दोषी कौन है ?

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार की ओर से कौन-कौन से कार्यक्रम चलाए गए हैं ?

सूबे से मेधा का पलायन बदस्तूर जारी है सरकार का ध्यान इस ओर क्यूँ नहीं जाता है या सरकार जान-बूझ कर इस गंभीर मुद्दे पर अपनी आँखें मूंदे हुए है ??

छात्रवृति की राशि का आवंटन नौकरशाही व् भ्रष्टाचार की भेंट क्यूँ और कैसे चढ़ जाता है ?

शैक्षणिक संस्थानों व् शिक्षा सी जुडी अन्य व्यवस्थाओं, संस्थाओं का राजनीतिकरण न हो इसके लिए कैसे और कौन-कौन से प्रयास सरकार की ओर से किए गए हैं ?

शराबबन्दी, दहेज़ प्रथा जैसी कुरीतियों की ओर सूबे के मुखिया का फोकस है अच्छी बात है लेकिन यक्ष-प्रश्न ये है कि ऐसा ही फोकस शिक्षा की ओर क्यूँ नहीं ? क्या बिना शिक्षा का स्तर सुधारे सामाजिक कुरीतियों का उन्मूलन संभव है??


Alok Kumar, Senior Journalist & Analyst

BLOG COMMENTS POWERED BY DISQUS

PhotoGallery

photogallery module

Your Favorite Recipes on PD

Recipes

Quick Poll

Should Nitish Kumar ditch RJD and Congress and come back to the NDA fold?

Latest Comments