बात दीवार पर स्पष्ट लिक्खी हुई है.  कुछ लोगों को वह नज़र नहीं आती.  कुछ जो देखते हैं, वे उसे पढ़ नहीं पाते.  बाकी बचे लोग पढ़ लेते हैं तो उसका मतलब उन्हें पल्ले नहीं पड़ता.

Read more ...

देश भर में ९ जून २०१७ को कबीर-जयंती मनाई गयी। 

कबीर (१५वीं शताब्दी) भक्तिकालीन भारतीय साहित्य और समाज के ऐसे युगचेता कवि थे जिनकी हैसियत आज भी एक जननायक से कम नहीं है। अपने समय के समाज में परंपरा और शास्त्र के नाम पर प्रचलित रूढ़ियों, धर्म के नाम पर पल रहे पाखंड-आडंबर, सामाजिक शोषण-असमानता जैसी कई बुराइयों के वे घोर विरोधी थे और इनके विरुद्ध डट कर बोले।

Read more ...

भारतीय काव्य-शास्त्र में आचार्य मम्मट को सम्माननीय स्थान प्राप्त है। मम्मट कश्मीरी पंडित थे और मान्यता है कि वे नैषधीय-चरित के रचयिता कवि हर्ष के मामा थे। वे भोजराज के उत्तरवर्ती माने जाते है। इस हिसाब से उनका काल दसवी शती का उत्तरार्ध बैठता है।

Read more ...

अशांति, विभ्रम और संशयग्रस्तता की स्थिति में किसी भी भाषा के साहित्य में उद्वेलन, विक्षोभ, चिन्ताकुलता और आक्रोश के स्वर अनायास ही परिलक्षित होते हैं। कश्मीरी के ‘विस्थापन साहित्य’ में भी कुछ इसी तरह का परिदृश्य नजर आता है।

Read more ...

Fathers need to be more friendly towards their children more so when they attain the age of sixteen, famous Indian teacher-turned politician Chanakya, (4th Century BC) known for his diplomacy and knowledge on worldly affairs, is attributed to have said.

Read more ...

The holy month of Ramadan/Ramzan is underway and will eventually conclude with the festivity of Eid. The entire month carries the message of service to mankind. More precisely the message is: let the hearts be filled with love, souls with compassion and minds with wisdom.

Read more ...

The picture above is the picture that launched a thousand ships for the elements who shouted their intention of fighting till the vivisection of the Indian state (Bharat tere tukde honge, etc) from the very heart of Bharat, from the campus of the elite Jawaharlal Nehru University, fully residential and fully funded by public money. It is famous for mass producing intellectuals.

Read more ...

The groundswell of support for the BJP was unmistakable in the state elections held in February, 2017 that secured 325 of the total 403 seats in the U.P. Vidhan Sabha. In the neighboring Uttarakhand, the BJP captured an astounding 57 of the 70 assembly constituencies. This phenomenon could certainly be read as an extension of the support the BJP enjoyed during the 2014 Lok Sabha polls when it bagged 73 of 80 seats in U.P.

Read more ...

View Your Patna

/30

Your Favorite Recipes on PD

Recipes

Latest Comments

Recent Articles in Readers Write, Lifestyle, Feature, and Blog Sections