Broadly speaking, wholesome and cordial family bonds are the result of good and appropriate parenting. As a matter of fact, parenting is the process of promoting and supporting the physical, emotional, social, and intellectual development of a child from his infancy to adulthood. It’s the parents who are the real personality-builders, counsellors and mentors of their children.

देश भर में ९ जून २०१७ को कबीर-जयंती मनाई गयी। 

कबीर (१५वीं शताब्दी) भक्तिकालीन भारतीय साहित्य और समाज के ऐसे युगचेता कवि थे जिनकी हैसियत आज भी एक जननायक से कम नहीं है। अपने समय के समाज में परंपरा और शास्त्र के नाम पर प्रचलित रूढ़ियों, धर्म के नाम पर पल रहे पाखंड-आडंबर, सामाजिक शोषण-असमानता जैसी कई बुराइयों के वे घोर विरोधी थे और इनके विरुद्ध डट कर बोले।

भारतीय काव्य-शास्त्र में आचार्य मम्मट को सम्माननीय स्थान प्राप्त है। मम्मट कश्मीरी पंडित थे और मान्यता है कि वे नैषधीय-चरित के रचयिता कवि हर्ष के मामा थे। वे भोजराज के उत्तरवर्ती माने जाते है। इस हिसाब से उनका काल दसवी शती का उत्तरार्ध बैठता है।

अशांति, विभ्रम और संशयग्रस्तता की स्थिति में किसी भी भाषा के साहित्य में उद्वेलन, विक्षोभ, चिन्ताकुलता और आक्रोश के स्वर अनायास ही परिलक्षित होते हैं। कश्मीरी के ‘विस्थापन साहित्य’ में भी कुछ इसी तरह का परिदृश्य नजर आता है।

Fathers need to be more friendly towards their children more so when they attain the age of sixteen, famous Indian teacher-turned politician Chanakya, (4th Century BC) known for his diplomacy and knowledge on worldly affairs, is attributed to have said.

The holy month of Ramadan/Ramzan is underway and will eventually conclude with the festivity of Eid. The entire month carries the message of service to mankind. More precisely the message is: let the hearts be filled with love, souls with compassion and minds with wisdom.